कवर्धाक्राइमछत्तीसगढ़

ढाबे में खुलेआम परोस रहे शराब खबर के बाद भी नहीं जागा आबकारी व पुलिस विभाग

कही महीने की पगड़ी रुकने का डर तो नहीं

कवर्धा। आखिर क्यों कार्यवाही करने से घबरा रहा आबकारी और पुलिस विभाग आखिर खबर देखने के बाद भी क्यों हाथ खींच रहे हैं अफसर कही महीने की पगड़ी समय पर पहुँचने से रुकने का डर तो नहीं। क्या इन अवैध शराब माफिया पर आबकारी व पुलिस मेहरबान तो नहीं।

जानबूझकर नहीं की जा रही है कार्यवाही

कुछ दिन पूर्व होटलो व ढाबों में अवैध शराब बेचने की खबर प्रकाशित होने के बाद भी कार्यवाही के लिए जिम्मेदार अधिकारी अपने हाथ खींचते नजर आ रहे है, कही अफसरों को नेताओं का डर तो नहीं सताने लगा है या उनकी भी जेब समय-समय पर गर्म कर दी जा रही है। अफसरों को किस चीज का डर है जिससे वो अपना हाँथ कार्यवाही करने से रोक रहे हैं, फिलहाल अभी ये सवाल बना हुआ है। खबर से लेकर आज तक कोई भी हलचल इन गंभीर मुद्दों को लेकर शहर में देखने को नहीं मिली है।

नेताओं के नाम का धौंस जमा बेखौफ है अवैध कारोबारी

सूत्रों द्वारा बताया यह भी जा रहा है कि नेशनल हाइवे के आस पास नियमों को ताक पर रखकर जो ढाबे चलाये जा रहे हैं जो बड़ें नेताओं का रहनुमाई का गलत ढंग से फायदा ढाबा मालिक द्वारा ठाया जा रहा है नेतागिरी कर उनके द्वारा धमकियाँ दी जाती हैं कि हम नेताओ के आदमी है हमारे ऊपर नेता जी हाथ है। उनका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता, नेताओं के नामों की आड़ में इस तरह के अवैध शराब व खाद्य सामग्री का बेंचा जाना नेताओं की छवि को जनता के सामने धूमिल करते जा रहा है।

नेशनल हाईवे के किनारे संचालित ढाबों में अवैध शराब का धड़ल्ले से जारी है। जिसका कोई सीमा कोई बंधन नहीं है। शासन प्रसासन के नाक के नीचे यह अवैध कारोबार किया जा रहा है पुलिस व आबकारी प्रशासन को सम्पूर्ण जानकारी होने के बाद भी इस तरह के अवैध शराब माफिया के खिलाफ कार्यवाही नहीं करना दोनों के बीच सांठ गांठ होने को संकेत देता है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
×

Powered by WhatsApp Chat

×