Uncategorized

कालोनी की तर्ज पर पक्का आवास बनाने का काम शुरू,कलेक्टर  जनमेजय महोबे ने जिले का पहला पीएम जनमन पक्का आवास कालोनी तैयार करने के निर्देश दिए

कालोनी की तर्ज पर पक्का आवास बनाने का काम शुरू,कलेक्टर  जनमेजय महोबे ने जिले का पहला पीएम जनमन पक्का आवास कालोनी तैयार करने के निर्देश दिए

कवर्धा, । छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले के विशेष पिछड़ी जनजाति बैगा बाहूल्य ग्राम ढोलबज्जा में प्रधानमंत्री जनमन योजना के तहत शहरी जीवन की तरह पक्का आवास कालोनी तैयार किया जाएगा। विशेष पिछड़ी जनजाति परिवारों के लिए तैयार होने वाली पक्का आवास कालोनी में शहरी जीवन की तरह सभी सुख-सुविधाएं वहां मुहैया कराई जाएगी। इस सुविधाओं में पक्का सड़क, जल जीवन मिशन के तहत घर-घर शुद्ध पेयजल की आपूर्ति, गली में रात्रि के लिए सोलर लाईट, नियमित साफ-सफाई, घर-घर शौचालय जैसी बुनियादी सुविधाएं होगी। साथ ही प्रत्येक घरों में पोषण बाड़ी विकसित करने के लिए भी रैड मैप तैयार की जा रही है। कलेक्टर  जनमेजय महोबे के निर्देश पर प्रधानमंत्री जनमन योजना के तहत पक्का आवास की कालोनी तैयार करने के लिए जिले के बैगा बाहुल बोडला विकासखण्ड के ग्राम ढोलबज्जा का चयन किया गया है।
कलेक्टर  जनमेजय महोबे ने आज बोडला विकासखण्ड के रानी दरहा पर्यटन स्थल से लगभग पांच किलोमीटर दूर ग्राम ढोलबज्जा पहुंचे। उन्होंने प्रधानमंत्री जनमन योजना के तहत पक्का आवास कालोनी तैयार करने बनाई गई 21 पक्का मकान की नक्शा का आवलोकन किया और नक्शे के आधार पर पक्का आवास निर्माण के लिए धरातल में मुर्त रूप ले रही कालोनी निर्माण का निरीक्षण किया। कलेक्टर ने प्रत्येक घरों पर पहुंच कर उनके द्वारा पक्का आवास निर्माण कार्यों का अवलोकन किया। निरीक्षण के दौरान यहां बताया गया कि प्रधानमंत्री जनमन योजना के तहत ग्राम ढोलबज्जा में कुल 192 विशेष पिछड़ी बैगा जनजाति परिवारों के लिए पक्का आवास निर्माण के लिए सर्वे किया गया है। प्रथम चरण में 170 बैगा परिवारों के लिए पक्का आवास की स्वीकृति दी गई है। 170 पक्का आवास निर्माण कार्य के लिए इस योजना के तहत 40 हजार रूपए प्रथम किस्त भी जारी कर दी गई है।
निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने प्रत्येक घरों में शुद्ध पेयजल की आपूर्ति के लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकीय विभाग को निर्देशित किया है। इसी प्रकार रात में गली में प्रकाश व्यवस्था के लिए क्रेड़ा अधिकारी को निर्देशित किया हैं। कलेक्टर ने कहा कि सभी आवास की डिजाईन एक जैसी होनी चाहिए और सभी आवास में रंग-रंगोगन भी एक ही रंग में होनी चाहिए। प्रत्येक घरों में शौचालय की व्यवस्था होनी चाहिए। निरीक्षण के दौरान पीएचई के कार्यपालन अभियंता  जीपी गौड़, आरईएस के कार्यपालन अभियंता  सामंता सहित क्रेडा के अधिकारी एवं जनपद पंचायत सीईओ  मनीष भारती सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
उल्लेखनीय है कि भारत सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ में निवासरत विशेष पिछड़ी जनजाति समुदाय के परिवारों को विकास की मुख्यधारा से जोड़ने के उद्ेश्य से प्रधानमंत्री जनमन योजना प्रांरभ किया गया है। इस योजना का क्रियान्वयन कबीरधाम जिल के बोडला और पंडरिया विकासखण्ड में विशेष पिछड़ी जनजाति बैगा ग्रामों में शुरू हो चुका है। कबीरधाम जिले के बोडला और पंडरिया विकासखण्ड में निवासरत बैगा परिवारों के लिए प्रथम चरण में 3554 आवासों की स्वीकृति दी गई है, इनमें 2996 पक्के आवास निर्माण के लिए प्रथम किस्त के रूप में 11 करोड़ 98 लाख रूपए जारी की गई है। कबीरधाम जिले के विकासखण्ड बोड़ला में 179 और पंडरिया के 77 गांवों में बैगा परिवारों की बाहुलता है। इन परिवारों के लिए बोड़ला विकासखण्ड में 2081 और पंडरिया विकासखण्ड में 1474 आवासों की स्वीकृति दी गई है। बैगा परिवारों को प्रथम चरण में 2996 आवासों आवास निर्माण के लिए पहली किस्त के रूप में 40-40 हजार रूपए की राशि जारी की गई है। इसके अलावा योजना में इन गांवों में बुनियादी सुविधाएं बिजली, पानी, सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य सहित अन्य मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करायी जाएंगी। प्रधानमंत्री जनमन योजना के तहत बैगा परिवारों को आवास निर्माण के लिए 2 लाख रूपए की राशि 4 किस्तों में दी जाएगी। साथ ही महात्मागांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत 95 दिनों का मजदूरी का भुगतान किया जाएगा। इसी प्रकार इन बैगा ग्रामों में पक्की सड़क निर्माण के लिए प्रथम चरण में 47 नए सड़को के निर्माण के लिए 135 करोड़ 72 लाख 84 हजार रूपए की स्वीकृति दी गई है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
×

Powered by WhatsApp Chat

×